विदिशा : महेश्वरी दयाल खरे द्वारा मुफ्त हिंदी पीडीऍफ पुस्तक | Vidisha : by Maheshwari Dayal Khare Free Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण : महापुरुष जन्म लेते हैं, उत्कृष्ट जीवन व्यतीत करते हैं और दिवंगत हो जाते हैं| विशाल साम्राज्यों की नींव पड़ती है, विस्तृत होते हैं और विनष्ट हो जाते हैं| महानगरों का निर्माण होता है, समृद्धशाली होते हैं और भूत के गर्भ में विलीन हो जाते हैं| केवल प्रकृति ही निरन्तर क्रियाशील रहती है, जिसका अनुपम उपहार मनुष्य है………….

Description about eBook : Legends are born, spend excellent lives and become dead. The foundations of vast empires are expanded, and become destroyed. Metros are formed, prosperous and merged into the womb of the ghost. Only nature is constantly active, whose unique gift is human……………

44 Books पर उपलब्ध सभी हिंदी पुस्तकों को देखने के लिए – यहाँ दबायें