नई परख : रमेश गौतम द्वारा मुफ्त हिंदी नाटक पीडीएफ पुस्तक | Nai Parakh : by Ramesh Gautam Free Hindi Natak PDF Book 

पुस्तक का विवरण : हिंदी नाटक की सर्जनात्मकता का इतिहास लगभग सवा सौ साल पुराना है| आधुनिकता के प्रवेश-द्वार भारतेंदु काल से हिंदी नाटकों की शुरुआत मानी जाती है| तब से लेकर अब तक विकास और बदलाव के कई पड़ावों से गुजरते हुए हिंदी नाटक की सर्जनात्मक भूमिका बनी है| देश और काल की पारिवेशिक परिस्थितियों के अनुरूप बदला और विकसित हुआ| संवेदना और संरचना दोनों ही दृष्टियों से हिंदी नाट्य-साहित्य में काफी विविधता है| रचनाकारों ने चिंतन-दृष्टि और प्रयोगशीलता का परिचय देते हुए समय-समय पर हिंदी नाट्य विधा के नए-नए संस्करण बनाये…………..

Description about eBook : Hindi drama prolific history of nearly twenty hundred years old. Since the entrance of modernity Bharatendu Hindi is considered the beginning of the plays. Since then, while passing through various phases of development and transformation of the creative role Hindi play is made. Pariveshik circumstances of space and time has changed and evolved. Theatrical sensibility and structure both for Hindi literature is quite diverse. Pryogshilta creators thinking vision and introducing the occasional Hindi devised new theatrical genre………………..

44 Books पर उपलब्ध सभी हिंदी पुस्तकों को देखने के लिए – यहाँ दबायें