पंचीकरणम (प्रणवार्थ) : शंकराचार्य द्वारा मुफ्त हिंदी पुस्तक | Panchikranam (Pranvarth) : by Shankaracharya Free Hindi Book 

पुस्तक का विवरण : वैदिक साहित्य के भीतर ॐ शब्द का बड़ा महत्व है यहाँ तक कि आदरार्थ जैसे माता पिता आदि का नित्य नाम साधारणतया नहीं लिया जाता उसी भांति ॐ का भी एक उपनाम रखा गया है ( जैसे माता पिता आदि को माँ, अम्मा, बाप्पा आदि कहते हैं) वेद मन्त्र व उपनिषद् व दर्शन आदि सभी शास्त्रों में महात्म्य जप, विचार आदि रूप से ॐ ला आधार लिया गया है तो शंका यह होती है कि यह केवल शब्द मात्र है कि और कुछ? इसी शंका को लेकर कहीं-कहीं उपनिषद् इसके अर्थ का भी विचार किया है यहाँ तक कि माण्डूक्य उपनिषद् पूरा इसी का अर्थ ही है…………..

Description about eBook : Vedic literature is great importance of the word Om within  for honor even as parents are not generally the same manner, and the name of the routine has a nickname (such as parents, etc. Mother, Amma, says Bappa etc.) Veda mantra chanting and majesty in all the scriptures Upanishads and philosophy, etc., etc. the idea is taken as the basis for bringing doubt that it is the only word that only some? The doubt about the meaning of some places have considered Upanishads Manduky even the meaning of the Upanishads is completed……………….

44 Books पर उपलब्ध सभी हिंदी पुस्तकों को देखने के लिए – यहाँ दबायें